Wednesday, 15 April 2015

जाऊँ कैसे ........


रात जब हम मिल बैठे थे
तमन्नाओं के साये में !
तेरे उलझे हुए गेसुओं को
सुलझाया था मैंने !
एक दिया प्यार का
जलाया था तुमने ऐसे !
आग फिर रूह को लग गयी कैसे !
जल गया सब कुछ
मिट गया वजूद जो कल तक था मेरा !
धुआं उस आग का
जम गया है मेरी सांसो में !
आग इतनी कि दिल बुझाता कैसे ?
क्या ख़बर थी कि झुलस जाऊंगा
वरना तेरे घर क्या आता ऐसे !
मैं होश में आऊँ तो आऊँ कैसे !
अब बता मैं वापस जाऊँ तो जाऊँ कैसे !!

                                      ......मोहन सेठी 'इंतज़ार'