Friday, 3 July 2015

सुनो ...जलन .........150703


मत्ले का शेर लिखा मगर बहर बड़ी हो गई तो ग़ज़ल आप के लिये छोड़ दी .....