Thursday, 18 December 2014

राँझा (पंजाबी).....



तेरे कहे मैं राँझा ना बनया
साध कींवें बन जावाँ
तेरी सुन सुन जनम गवाया
तू ऐडा केड़ा सयाना

जो दिल चाहवे मैं बन जावां
जोगी भावें मलंग
चल पंडता तू करलै अपनी
मैं ताँ उडोनी अपनी पतंग

रब मंग्यां मनु रब न मिल्या
बस एक रांझन मुड़ मुड़ आयी
मैं की लैना जोगी बन के
जद रांझे रांझन पायी

ओह की मंगे रब कोलो
जिस खुद रांझन पाई
चल बलया असी ओथे चलिए
जित्थे रब न होवे कोई
                   .....इंतज़ार